Advertisement

जब से बसे हो आँख में
सारे मनाज़िर लगे हैं फीके से
गाँव में यादों के
हर घड़ी
रस्ता मुहब्बत का
खो गया मैं
कोई दवा न मिली
नमक ग़मों का