Header Ads

जो मेरा था

March 24, 2019
चला शहर को तो वो गांव बेच आया है अजब मुसाफ़िर है जो पांव बेच आया है मकां बना लिया माँ-बाप से अलग उसने शजर ख़रीद लिया छांव बेच...Read More

यादों के हवाले

March 13, 2019
कश्कोल लेके आया हूँ, आँखों में आस का रक्खोगे पास, सिर्फ तुम ही मेरी प्यास का यादों के हवाले ही, इसे कर दो आख़िरश कुछ और ही...Read More

ये आलम उदास है

February 01, 2019
तुम बिन बहार का मौसम उदास है। आकर तो देखो ये आलम उदास है।। खिलने से पहले ही मसले हैं गुंचे  मंज़र ये देखकर शबनम उदास है।। आर...Read More

आशाओं का दामन

January 07, 2019
ये सहज प्रेम से विमुख ह्रदय क्यों अपनी गरिमा खोते हैं समझौतों पर आधारित जो वो रिश्ते भार ही होते हैं क्षण-भंगुर से इस जीवन स...Read More

ख़्वाबों का मौसम

December 27, 2018
कई दिन से चुप तेरी यादों के पंछी फिर सहन-ए-दिल में चहकने लगे हैं ख़्वाबों के मौसम भी आकर हमारी आँखों में फिर से महकने लगे है...Read More

साँसों का साथ

September 13, 2018
ये करिश्मा मोहब्बत में होते देखा लब पे हँसी आँख को रोते देखा गुजरे है मंज़र भी अजब आँखों से साहिल को कश्तियां डुबोते देखा * * * ...Read More

चुपके-चुपके

September 06, 2018
व्याकुल हो जब भी मन मेरा तब-तब गीत नया गाता है आँखों में इक सपन सलोना  चुपके-चुपके आ जाता है जीवन के सारे रंगों से  भीग ...Read More

मेरी आँखों को

August 25, 2018
ख़्वाब जिसके तमाम उम्र संजोई आँखें उसकी यादों ने आंसुओं से भिगोई आँखें तेरे ख़्वाबों की हर एक वादाखिलाफ़ी की कसम मुद्दतें हो गई है...Read More

ज़िन्दगी का मौसम

August 23, 2018
तीन मुक्तक उदास-उदास सा है ज़िन्दगी का मौसम नहीं आया, हुई मुद्दत खुशी का मौसम दिल को बेचैन किये रहता है नदीश सदा याद रह जाता है क...Read More

Advertisement

Powered by Blogger.