Showing posts from October, 2017Show all
तुम्हारे हिज़्र में
ग़म की झील में
अक्स ने जैसे ख़ुदकुशी कर ली
मंज़र दिल का उदास
बुझी आँखों में
तुम्हारी यादों से .
चांदनी की तरह