ग़ज़ल की शबनमी छांव में एक ठहराव

ग़म की झील में

मंज़र दिल का उदास

बुझी आँखों में

चांदनी की तरह

Bottom Ad [Post Page]