Posts

सरापा दास्तां हूँ

चांदनी के फूल

तुम न होगे तो

तेरी आँखों में

गाँव में यादों के

किस तरह बदलते हैं

ओस की बूंदों से

दिल के अनुसार नहीं होता

पांव से कह रहा है

याद के पंछी

ख़्वाब रखता हूँ