ख़्वाब रखता हूँ



फैसलों का तेरे ऐ ज़िन्दगी हिसाब रखता हूँ।
गुज़िश्ता हर लम्हें की तेरे इक किताब रखता हूँ

देखकर चुप हूँ तेरी चश्मे-परेशां ऐ वक़्त
वगरना तेरे हर सवाल का जवाब रखता हूँ

दोस्ती में सुना है अब कहीं वफ़ा ही नहीं
बात ये है कि मैं भी थोड़े से अहबाब रखता हूँ

 उम्मीदो-अश्क़ से बावस्ता हैं आँखें उससे
शिकस्ता ही सही वफ़ा का मैं जो ख़्वाब रखता हूँ

कोई ख़्वाहिश कोई हसरत नहीं खुशी की नदीश
उतर के देख दिल में कितने मैं अज़ाब रखता हूँ

चित्र साभार-गूगल

टिप्पणियां

  1. दिल से लिखी बहुत खूबसूरत ग़ज़ल हर शेर लाज़वाब है लोकेश जी।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत ही ख़ूबसूरत शेर हैं ग़ज़ल के ...

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही खूबसूरत गजल, लोकेश जी।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर शेर एक से एक,
    बेहतरीन गजल।

    जवाब देंहटाएं
  5. बेहतरीन, बार बार पढ़ती हूँ आपकी ग़ज़लें आदरणीय

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. ज़र्रा नवाज़ी है आपकी
      बहुत बहुत आभार आदरणीया

      हटाएं
  6. उम्मीदो-अश्क़ से बावस्ता हैं आँखें उससे
    शिकस्ता ही सही वफ़ा का मैं जो ख़्वाब रखता हूँ

    कोई ख़्वाहिश कोई हसरत नहीं खुशी की नदीश
    उतर के देख दिल में कितने मैं अज़ाब रखता हूँ...


    बेहतरीन गजल नदीश जी।

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें