ग़ज़ल की शबनमी छांव में एक ठहराव

कितना बवाल था

रिश्तों की ये पतंग

ख़ुश्बू आँखों में

कुछ नहीं

जलते शहर से

Bottom Ad [Post Page]