Showing posts from February, 2018Show all
गुलों की राह के
दर्द से निस्बत
फूल अरमानों का
कहूँ किसको
ये आँखें जब
तहखाने नींद के