ग़ज़ल की शबनमी छांव में एक ठहराव

गुलों की राह के

दर्द से निस्बत

फूल अरमानों का

कहूँ किसको

ये आँखें जब

तहखाने नींद के

Bottom Ad [Post Page]