आस की छत

May 24, 2018
कड़ी है धूप और न साया-ए-शजर यारों न हमसफ़र है, उसपे ज़ीस्त का सफ़र यारों न हक़ीक़त की सदा और न ख़्वाब की आहट बहुत उदास है यादों की रहग...Read More

शहर में तेरे

May 14, 2018
मकानों के दरम्यान कोई घर नहीं मिला शहर में तेरे प्यार का मंज़र नहीं मिला झुकी जाती है पलकें ख़्वाबों के बोझ से आँखों को मगर नींद ...Read More

मुद्दतों से जिसे

May 09, 2018
दिल की उम्मीदों को सीने में छिपाये रक्खा इन चराग़ों को हवाओं से बचाये रक्खा हमसे मायूस होके लौट गई तन्हाई भी हमने खुद को तेरी ...Read More

कहकशां

May 05, 2018
पल भर तुमसे बात हो गई ख़ुशियों की सौग़ात हो गई दुश्मन है इन्सां का इन्सां कैसी उसकी जात हो गई आँखों में है एक कहकशां अ...Read More