ग़ज़ल की शबनमी छांव में एक ठहराव

आस की छत

शहर में तेरे

मुद्दतों से जिसे

कहकशां

Bottom Ad [Post Page]