Header Ads

कहकशां



पल भर तुमसे बात हो गई
ख़ुशियों की सौग़ात हो गई

दुश्मन है इन्सां का इन्सां
कैसी उसकी जात हो गई

आँखों में है एक कहकशां
अश्कों की बारात हो गई

वक़्त, वक़्त ने दिया ही नहीं
बातें अकस्मात हो गई

जख़्म मिले ता-उम्र जो नदीश
रिश्तों की सौग़ात हो गई

चित्र साभार- गूगल

*कहकशां- आकाशगंगा, गैलेक्सी

18 comments:

  1. वाह्ह...लाज़वाब....शानदार....हर शेर बहुत अच्छा है लोकेश जी..हमेशा की तरह...सुंदर गज़ल👌👌

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर गजल।

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत अशआर...

    ReplyDelete
  4. वक़्त किसको वक़्त देता है ...
    मुहब्बत भी तो एक पल में हो जाती है ...
    लाजवाब ग़ज़ल ...

    ReplyDelete
  5. वक़्त, वक़्त ने दिया ही नहीं
    बातें अकस्मात हो गई
    वाह बेहतरीन गजल लोकेश जी

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर 👌👌👌

    ReplyDelete
  7. वाह !! बहुत ख़ूब आदरणीय
    सादर

    ReplyDelete
  8. वाह, बेहतरीन रचना

    ReplyDelete

Powered by Blogger.