ज़िन्दगी

June 22, 2018
सैकड़ों खानों में जैसे बंट गई है ज़िन्दगी साथ रह कर भी लगे है अजनबी है ज़िन्दगी झाँकता हूँ आईने में जब भी मैं अहसास के यूँ लगे है ...Read More

बिखर जाने दे

June 14, 2018
अपनी आँखों के आईने में संवर जाने दे मुझे समेट ले आकर या बिखर जाने दे मेरी नहीं है तो ये कह दे ज़िन्दगी मुझसे चंद सांसें करूँगा क...Read More

दर्द का एक पल

June 08, 2018
बिछड़ते वक़्त तेरे अश्क़ का हर इक क़तरा लिपट के रास्ते से मेरे तर-ब-तर निकला खुशी से दर्द की आँखों में आ गए आंसू मिला जो शख़्स वो ख़्...Read More

अच्छा है कि

June 04, 2018
रखता नहीं है निस्बतें  किसी  से आदमी रिश्तों को ढ़ो रहा है आजिज़ी से आदमी धोखा, फ़रेब,  खून-ए-वफ़ा  रस्म हो गए डरने लगा  है अब  त...Read More