Posts

नमक ग़मों का

मौसम है सुहाना दिल का

जो मेरा था

यादों के हवाले

ये आलम उदास है

आशाओं का दामन