ये आलम उदास है

तुम बिन बहार का मौसम उदास है।
आकर तो देखो ये आलम उदास है।।

खिलने से पहले ही मसले हैं गुंचे 
मंज़र ये देखकर शबनम उदास है।।

आराम आये भी तो कैसे आये
ज़ख्मों की शिद्दत से मरहम उदास है।।

बीमारे-उल्फ़त हैं कितने न पूछो
कोई ज़ियादा कोई कम उदास है।।

आके किसी रोज देखो नदीश को
जब से गये हो तुम हरदम उदास है।।

चित्र साभार-गूगल

टिप्पणियां

  1. तुम बिन बहार का मौसम उदास है।
    आकर तो देखो ये आलम उदास है।।
    बहुत खूबसूरत......, लाजवाब सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 03 फरवरी 2019 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. बीमारे-उल्फ़त हैं कितने न पूछो
    कोई ज़ियादा कोई कम उदास है।।
    बहुत खूब ..............

    जवाब देंहटाएं

  4. आराम आये भी तो कैसे आये
    ज़ख्मों की शिद्दत से मरहम उदास है

    अन्तस् की मखमली . महीन अनुभूतियों को बहुत ही कोमलता से उकेरती रचना बहुत प्यारी है आदरणीय लोकेश जी | आपके लेखन की मौलिक शैली को संजोये ये रचना आपकी एनी रचनाओं की तरह वाह और सिर्फ वाहकी हक़दार है | हार्दिक शुभकामनायें और बधाई |

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत खूब ...
    मकते का शेर तो लाजवाब है ...
    हर शेरर खूबसूरत है इस ग़ज़ल का ...

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुति।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    iwillrocknow.com

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह !बहुत सुन्दर आदरणीय
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  8. हर शेर लाजवाब ... नया अंदाज़ लिए है ...
    दमदार ग़ज़ल ... मुबारक कबूल करें ...

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें