पोस्ट

फूल खिला के आया हूँ

जब से बसे हो आँख में

सारे मनाज़िर लगे हैं फीके से