Showing posts with label अच्छा है कि. Show all posts
Showing posts with label अच्छा है कि. Show all posts

अच्छा है कि

रखता नहीं है निस्बतें  किसी  से आदमी
रिश्तों को ढ़ो रहा है आजिज़ी से आदमी

धोखा, फ़रेब,  खून-ए-वफ़ा  रस्म हो गए
डरने लगा  है अब  तो  दोस्ती से आदमी

मिलती नहीं हवा भी चराग़ों से  इस तरह
मिलता है जिस तरह से आदमी से आदमी

शिकवा ग़मों का यूँ तो हर एक पल से है यहाँ
ख़ुश  भी  नहीं हुआ मगर ख़ुशी से आदमी

हासिल है रंजिशों का तबाही-ओ-तबाही
रहता है मगर फिर भी दुश्मनी से आदमी

अपना पराया भूल के सब एक हो यहां
अच्छा है कि मिल के रहे सभी से आदमी

अच्छा है कि नदीश मुकम्मल नहीं है तू
पाता है कुछ नया किसी कमी सी आदमी

चित्र साभार- गूगल

÷÷÷÷÷
निस्बत- अपनापन
आजिज़ी- बेमन, बेरुख़ी
मुकम्मल- पूर्ण