Showing posts with label अच्छा है कि. Show all posts
Showing posts with label अच्छा है कि. Show all posts

अच्छा है कि

June 04, 2018
रखता नहीं है निस्बतें  किसी  से आदमी रिश्तों को ढ़ो रहा है आजिज़ी से आदमी धोखा, फ़रेब,  खून-ए-वफ़ा  रस्म हो गए डरने लगा  है अब  त...Read More