Showing posts with label याद. Show all posts
Showing posts with label याद. Show all posts

याद के पंछी

December 06, 2017
पलक की सीपियों में अश्क़ को गौहर बनाता हूँ मैं तन्हाई की दुल्हन के लिए जेवर बनाता हूँ कभी चंपा कभी जूही कभी नर्गिस की पंखुडियां...Read More

सारी दुनिया भुला दी

November 23, 2017
सांसों ने चाहा ओ' दिल ने दुआ दी मिला साथ तेरा ज़िन्दगी मुस्कुरा दी सोचा था भुलाऊंगा यादों को तेरी मगर याद ने सारी दुनिया भुल...Read More

ख़्वाब की गलियों में

November 10, 2017
यूँ मुसलसल ज़िन्दगी से मसख़री करते रहे ज़िन्दगी भर आरज़ू-ए-ज़िन्दगी करते रहे  एक मुद्दत से हक़ीक़त में नहीं आये यहाँ  ख़्वाब की ग...Read More

चाहते क्या हो

November 10, 2017
भला मायूस हो क्यूँ आशिकी से चाहते क्या हो? अभी तो आग़ाज़ ही है फिर अभी से चाहते क्या हो? कहाँ हर आदमी दिल चीर के तुमको दिखायेगा ब...Read More

दीदार सनम का

November 08, 2017
खोया है कितना, कितना हासिल रहा है वो अब सोचता हूँ कितना मुश्किल रहा है वो जिसने अता किये हैं ग़म ज़िन्दगी के मुझको खुशि...Read More

यादों की दौलत

November 06, 2017
यूँ भी दर्द-ए-ग़ैर बंटाया जा सकता है आंसू अपनी आँख में लाया जा सकता है खुद को अलग करोगे कैसे, दर्द से बोलो दाग, ज़ख्म का भले म...Read More

तुम्हारे हिज़्र में

October 28, 2017
गिर रही है आँख से शबनम तुम्हारे हिज़्र में एक ही बस एक ही मौसम तुम्हारे हिज़्र में क़तरे-क़तरे में शरारों सी बिछी है चांदनी  ब...Read More

ग़म की झील में

October 27, 2017
रुख़ से ज़रा नक़ाब उठे तो ग़ज़ल कहूं  महफ़िल में इज़्तिराब उठे तो ग़ज़ल कहूं  इस आस में ही मैंने खराशें क़ुबूल की  काँटों से जब गुल...Read More

मंज़र दिल का उदास

October 16, 2017
मंज़र दिल का उदास अच्छा नहीं लगता तुम नहीं होते पास अच्छा नहीं लगता तेरी क़दबुलन्दी से नहीं इनकार कोई लेकिन छोटे एहसास, अच्छा नहीं...Read More

बुझी आँखों में

October 15, 2017
वफ़ा का फिर सिला धोखा रहा है बस अपना तो यही किस्सा रहा है उन्ही जालों में खुद ही फंस गया अब जिन्हें रिश्तों से दिल बुनता र...Read More

तुम्हारी यादों से .

October 15, 2017
पोशीदा बातों को सुर्खियां बनाते हैं लोग कैसी-कैसी ये कहानियां बनाते हैं जिनमें मेरे ख़्वाबों का नूर जगमगाता है वो मेरे आंसू इक...Read More

चांदनी की तरह

October 14, 2017
प्यार हमने किया जिंदगी की तरह आप हरदम मिले अजनबी की तरह मैं भी इन्सां हूँ, इन्सान हैं आप भी फिर क्यों मिलते नहीं आदमी की त...Read More