ग़ज़ल की शबनमी छांव में एक ठहराव

आस की छत

मगर चाहता हूँ

Bottom Ad [Post Page]