Showing posts with label रहगुज़र. Show all posts
Showing posts with label रहगुज़र. Show all posts

आस की छत

May 24, 2018
कड़ी है धूप और न साया-ए-शजर यारों न हमसफ़र है, उसपे ज़ीस्त का सफ़र यारों न हक़ीक़त की सदा और न ख़्वाब की आहट बहुत उदास है यादों की रहग...Read More

मगर चाहता हूँ

March 08, 2018
मुहब्बत में अपनी असर चाहता हूँ वफ़ा से भरी हो नज़र चाहता हूँ तेरा दिल है मंज़िल मेरी चाहतों की नज़र की तेरी रहगुज़र चाहता हूँ ...Read More

न कोई मंजिल के निशां

November 26, 2017
मिरे वज़ूद को दिल का जो घर दिया तूने इश्क़ की राह को आसान कर दिया तूने ख़लिश मैं ओस की महसूस करूं फूलों में दिल के एहसास को कैसा...Read More