ग़ज़ल की शबनमी छाँव में एक ठहराव...

क्या पता था