Posts

Showing posts with the label लोकेश नशीने

चुपके-चुपके

मेरी आँखों को

ज़िन्दगी का मौसम

ग़म की रेत पे

तेरा ख़याल

मेरी तस्वीर

ज़िन्दगी

बिखर जाने दे

दर्द का एक पल

अच्छा है कि

आस की छत

शहर में तेरे

मुद्दतों से जिसे

कहकशां

सपने, आँखें, नींद

दर्द का लम्हा

यादों की टिमटिम

मंज़र बहार के

ख़्वाबों को

काफ़िले दर्द के

साथी