ग़ज़ल की शबनमी छाँव में एक ठहराव...

ख़्वाब रखता हूँ

सिवा प्यार के