Showing posts with label शजर. Show all posts
Showing posts with label शजर. Show all posts

आस की छत

May 24, 2018
कड़ी है धूप और न साया-ए-शजर यारों न हमसफ़र है, उसपे ज़ीस्त का सफ़र यारों न हक़ीक़त की सदा और न ख़्वाब की आहट बहुत उदास है यादों की रहग...Read More