Showing posts with label शहर में तेरे. Show all posts
Showing posts with label शहर में तेरे. Show all posts

शहर में तेरे

May 14, 2018
मकानों के दरम्यान कोई घर नहीं मिला शहर में तेरे प्यार का मंज़र नहीं मिला झुकी जाती है पलकें ख़्वाबों के बोझ से आँखों को मगर नींद ...Read More