Posts

दर्द का लम्हा

यादों की टिमटिम

मंज़र बहार के

ख़्वाबों को

अनमनी है ज़िन्दगी

काफ़िले दर्द के

दर्द का मौसम

मगर चाहता हूँ

फूल अरमानों का

तहखाने नींद के

मेरे एहसास की तितली

कितना बवाल था

रिश्तों की ये पतंग

ख़ुश्बू आँखों में

कुछ नहीं

जलते शहर से

सरापा दास्तां हूँ

चाँद खिल गया

क्या पता था

तेरी आँखों में