Showing posts with label ख़लिश. Show all posts
Showing posts with label ख़लिश. Show all posts

दर्द का मौसम

March 15, 2018
कितना ग़मगीन ये आलम दिखाई देता है हर जगह दर्द का मौसम दिखाई देता है दिल को आदत सी हो गई है ख़लिश की जैसे अब तो हर खार भी मरहम दिख...Read More

दर्द से निस्बत

February 27, 2018
जो  भी ख़लिश* थी दिल में अहसास हो गई है दर्द से निस्बत* मुझे कुछ खास हो गई है वज़ूद हर खुशी का ग़म से है इस जहां में फिर ज़िन...Read More

न कोई मंजिल के निशां

November 26, 2017
मिरे वज़ूद को दिल का जो घर दिया तूने इश्क़ की राह को आसान कर दिया तूने ख़लिश मैं ओस की महसूस करूं फूलों में दिल के एहसास को कैसा...Read More