Posts

तेरा ख़याल

अश्क़ों का बादल

मेरी तस्वीर

तेरे बगैर

अच्छा है कि

दर्द से निस्बत

तहखाने नींद के

मेरे एहसास की तितली

ख़ुश्बू आँखों में

कुछ नहीं

जलते शहर से

सरापा दास्तां हूँ

तुम न होगे तो

तेरी आँखों में

गाँव में यादों के

किस तरह बदलते हैं

ओस की बूंदों से

दिल के अनुसार नहीं होता

पांव से कह रहा है

याद के पंछी