Posts

तुम न होगे तो

तेरी आँखों में

गाँव में यादों के

किस तरह बदलते हैं

ओस की बूंदों से

दिल के अनुसार नहीं होता

पांव से कह रहा है

याद के पंछी

ख़्वाब रखता हूँ

न कोई मंजिल के निशां