संदेश

अब अगर आओ तो

बहारें अब न आएंगी

झील

इज़्तिराब देखता हूँ

बहार का लुत्फ़

रंग मुहब्बत का

पंखुड़ी गुलाब की