चाहते क्या हो

भला मायूस हो क्यूँ आशिकी से चाहते क्या हो?
अभी तो आग़ाज़ ही है फिर अभी से चाहते क्या हो?

कहाँ हर आदमी दिल चीर के तुमको दिखायेगा
बताओ यार तुम अब हर किसी से चाहते क्या हो?

फ़क़त हों आपके आँगन में ही महदूदो-जलवागर
घटा से धूप से और चांदनी से चाहते क्या हो?

वफायें रोक लेंगी तुमको मेरी, है यकीं मुझको 
दिखाकर इस तरह की बेरुखी से चाहते क्या हो?

छिपा सकते हो कब तक खुद से खुद को तुम नदीश
चुराकर आँख अपनी आरसी से चाहते क्या हो?

चित्र साभार- गूगल

महदूदो-जलवागर- सीमित और रौशन


Comments

  1. वाह्ह्ह......बहुत खूब👌👌

    ReplyDelete
  2. हम तो वाह वाह ही कहेंगे, और चाहते क्या हो....
    शानदार

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया आदरणीया

      Delete
  4. बेहतरीन से भी बेहतरीन

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीया

      Delete
  5. I just read you blog, It’s very knowledgeable & helpful.
    i am also blogger
    click here to visit my blog

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

चुपके-चुपके

ग़म की रेत पे

ये आँखें जब

साँसों का साथ

फूल अरमानों का

मेरी आँखों को

ठंडी हवा की आँच