तुम न होगे तो




तुम न होगे तो यूँ भी क्या हो जाएगा
कुछ नए ज़ख्मों से राब्ता हो जाएगा

उसको भी तासीरे-उल्फ़त देगी बदल
बेवफ़ा हो तो बावफ़ा हो जाएगा

सीख ली उसने मौसम की अदा
हँसते-हँसते ही वो खफ़ा हो जाएगा

चाहतें अपनी हमने तो कर दी निसार
क्या पता था वो बेवफ़ा हो जाएगा

दर्द मिलते रहें तो न घबरा ऐ दिल
दर्द भी तो कभी दवा हो जाएगा

आप कहें तो कभी मुझको अपना नदीश
दिल क्या ईमान भी आपका हो जाएगा

चित्र साभार- गूगल

Comments


  1. तुम न होगे तो यूँ भी क्या हो जाएगा
    कुछ नए ज़ख्मों से राब्ता हो जाएगा

    उसको भी तसीरे-उल्फ़त देगी बदल
    बेवफ़ा हो तो बावफ़ा हो जाएगा....

    बेहतरीन गजल आदरणीय लोकेश जी।

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत उम्दा रचना।

    ReplyDelete
  3. वाह्ह्ह....बेहद शानदार गज़ल लोकेश जी।
    भावों का संप्रेषण सहज और सरल तरीके से आपको खूब.आता है।

    ReplyDelete
  4. दर्द भी तो कभी दवा हो जाएगा ....... बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  5. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 1 अगस्त 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. तुम न होगे तो यूँ भी क्या हो जाएगा
    कुछ नए ज़ख्मों से राब्ता हो जाएगा
    उसको भी तासीरे-उल्फ़त देगी बदल
    बेवफ़ा हो तो बावफ़ा हो जाएगा!!!!!!!!!!
    बहुत ही नाजुक आशारात आदरणीय लोकेश जी और आत्मा से निकले भाव हृदयस्पर्शी हैं | हार्दिक शुभकामनाये इस उम्दा लेखन के लिए | सादर --

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन गजल आदरणीय 👌

    ReplyDelete
  8. 'तुम न होगे तो यूँ भी क्या हो जाएगा
    कुछ नए ज़ख्मों से राब्ता हो जाएगा'
    मन को छू ये पंक्तियाँँ........,

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

चुपके-चुपके

ग़म की रेत पे

ये आँखें जब

साँसों का साथ

फूल अरमानों का

मेरी आँखों को

ठंडी हवा की आँच