ख़ुश्बू आँखों में


ख़्वाब तेरा करता है वो जादू आँखों में
भर उठती है ख़्वाब की हर ख़ुश्बू आँखों में

क़त्ल बताओ कैसे फिर मेरा न होता
रक्खे थे उसने लम्बे चाकू आँखो में

मचल मचल जाती है ये दीदार को तेरे
अब हमको भी रहा नहीं काबू आँखों में

दर्द कोई जब दिल को मेरे छेड़े आकर
जोर से हँसते हैं मेरे आंसू आँखों में

ऐ नदीश जिसपे भी किया भरोसा तूने
चला गया है झोंक के वो बालू आँखों में

चित्र साभार- गूगल

Comments

  1. वाह्ह्ह...जानदार,शानदार गज़ल.लोकेश जी।👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार श्वेता जी

      Delete
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. लाजवाब शेर हैं इस ग़ज़ल के ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बेहतरीन ग़ज़ल

    ReplyDelete
  5. लाजवाब शेरों से सजी शानदार गजल...
    वाह!!!

    ReplyDelete
  6. वाह ¡¡
    उम्दा गजल ।

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन ग़ज़ल
    सादर

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

चुपके-चुपके

ग़म की रेत पे

ये आँखें जब

साँसों का साथ

फूल अरमानों का

मेरी आँखों को

ठंडी हवा की आँच