रिश्तों की ये पतंग

तिल गुड़ की खुश्बू सोंधी ये ख़ास खो न जाये
पुरखों की जो विरासत है पास, खो न जाये

उलझे न साज़िशों में रिश्तों की ये पतंग
अपनों को गिराने में एहसास खो न जाये

मेले ख़ुशी के जितने भी आएं ज़िन्दगी में
पर दुख में याद रखना कि आस खो न जाये

सुख की पतंग उलझे गर दुख की मुंडेरों पे
छूटे न डोर मन की विश्वास खो न जाये

मिलजुल के आज सोचें आओ नदीश हम सब
दुनिया से मुहब्बत की ये प्यास खो न जाये

चित्र साभार- गूगल

Comments

  1. उलझे न साज़िशों में रिश्तों की ये पतंग
    अपनों को गिराने में एहसास खो न जाये..
    सुंदर एहसास लिए मोहक रचना....

    ReplyDelete
  2. उमीदों की डोर बंधी रहे ... आशा वोश्वास से भरे शेर ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  3. वाह शानदार प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना आदरणीय

    ReplyDelete
  6. आशा का संचार करती बहुत सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  7. यह डोर तो साहित्यकारों के हाथ में है, समाज को चाहे जिधर ले जाएँ ..
    खूबसूरत एहसासों से भरी रचना

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

चुपके-चुपके

ग़म की रेत पे

ये आँखें जब

साँसों का साथ

फूल अरमानों का

मेरी आँखों को

ठंडी हवा की आँच