तेरे बगैर

किस्मत को तो मुझसे पुराना बैर रहा है
हर वक़्त तू भी तो खफ़ा सा, खैर रहा है

हासिल यही है तज़ुर्बा-ए-ज़िन्दगी मुझे
किरदार तो अपनों में मेरा ग़ैर रहा है

मुझको बहुत अज़ीज़, फ़क़ीरी है मेरी
हाँ गुम्बदों के सर पे मेरा पैर रहा है

फिरता रहा बार-ए-अना लिये तमाम उम्र
बनके लाश जो पानी में तैर रहा है

पल भर की जुदाई में दिए हैं हज़ार तंज़
कैसे नदीश ये तेरे बगैर रहा है

चित्र साभार- गूगल

बार-ए-अना- अहंकार का बोझ

टिप्पणियां

  1. वाह्हह... जबरदस्त...👌👌
    लोकेश जी बेहद शानदार गज़ल।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत शानदार हर शेर उम्दा🙏🙏❤

    जवाब देंहटाएं
  3. आदरणीय लोकेश जी ---शानदार रचना !!!!!जीवन के
    शाश्वत क्रूर सत्य को उकेरता ये शेर क्या खूब और काबिले दाद है !!!!!!

    फिरता रहा बार-ए-अना लिये तमाम उम्र
    बनके लाश जो पानी में तैर रहा है-- वाह और सिर्फ वाह !!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीया
      आपके उत्साहवर्धक शब्द बेहतर करने के लिए प्रेरित करते हैं

      हटाएं
  4. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है https://rakeshkirachanay.blogspot.com/2018/07/77.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर रचना, नदीश जी।

    जवाब देंहटाएं
  6. अलग अंदाज के अशआर, अच्छी ग़ज़ल

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें