जो मेरा था




चला शहर को तो वो गांव बेच आया है
अजब मुसाफ़िर है जो पांव बेच आया है
मकां बना लिया माँ-बाप से अलग उसने
शजर ख़रीद लिया छांव बेच आया है

●◆●◆●

जो मेरा था तलाश हो गया
हाँ यक़ीन था काश हो गया
मेरी आँखों में चहकता था
परिंदा ख़्वाबों का लाश हो गया

●◆●◆●

किनारों से बहुत रूठा हुआ है
कलेजा नाव का सहमा हुआ है
पटकती सर है, ये बेचैन लहरें
समंदर दर्द में डूबा हुआ है

●◆●◆●

चित्र साभार- गूगल

Comments

  1. बहुत लाजवाब मुक्तक ...
    दिल से दाद क़ुबूल करें ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया मुक्तक, लोकेश जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. लाजवाब बस लाजवाब।
    मेरी आँखों में चहकता था
    परिंदा ख़्वाबों का लाश हो गया।
    अप्रतिम।

    ReplyDelete
  5. लाजवाब मुक्तक ।

    ReplyDelete
  6. वाहह्हह.. वाहह्हह.. शानदार.. हृदयस्पर्शी सृजन लोकेश जी👍👍

    ReplyDelete
  7. किनारों से बहुत रूठा हुआ है
    कलेजा नाव का सहमा हुआ है
    पटकती सर है, ये बेचैन लहरें
    समंदर दर्द में डूबा हुआ है
    आदरणीय लोकेश जी -- आपकी नर्म मुलायन शायरी के लिए एक ही शब्द है -- वाह !!!! शुभकामनायें स्वीकार हों आदरणीय कविवर |

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर
    सादर

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

चुपके-चुपके

ग़म की रेत पे

ये आँखें जब

साँसों का साथ

फूल अरमानों का

मेरी आँखों को

ठंडी हवा की आँच