अपने कुछ ऐसे हैं
पूछो मत कैसे हैं

रस्ता मुहब्बत का
गुल, काँटों जैसे हैं

तुम से क्या मतलब, हम
ऐसे या वैसे हैं

झुक जाएगी दुनिया
खीसे में पैसे हैं?

दुनिया में हम जैसे
बस जैसे-तैसे हैं

चित्र साभार- गूगल