Posts

पंखुड़ी गुलाब की

महकती रही ग़ज़ल

सुनहरा मौसम

कह सकते हो

दूर मुझसे न रहो तुम

परिन्दे ख़्वाब के